आचार संहिता उल्लंघन में मायावती और योगी के चुनाव प्रचार पर लगा प्रतिबंध

42 views

नई दिल्ली (न्यूज़ नेस्ट)। चुनाव आयोग ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी(बसपा) प्रमुख मायावती की सांप्रदायिक टिप्पणी के लिए कड़ी निंदा करते हुए उनके चुनाव प्रचार पर क्रमश: 72 और 48 घंटे के लिए रोक लगा दी है। चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ और मायावती के खिलाफ यह कदम चुनावी रैलियों के दौरान भाषणों में आपत्तिजनक बयानबाजी से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के तहत उठाया है। इस दौरान दोनों नेताओं के सार्वजनिक सभा, जुलूस, रैली, रोड शो और साक्षात्कार, टीवी, अखबार एवं सोशल मीडिया में किसी प्रकार के बयान देने पर रोक रहेगी।                                            चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ को 72 घंटे और मायावती को 48 घंटे के लिए चुनाव प्रचार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। उन पर यह प्रतिबंध मंगलवार सुबह छह बजे से लागू होगा। आयोग ने योगी आदित्यनाथ की नौ अप्रैल को मेरठ में एक रैली के दौरान आपत्तिजनक टिप्पणी पर आचार संहिता उल्लंघन के तहत 11 अप्रैल को उन्हें कारण बताओ नोटिस भेजा था। योगी ने आयोग को भेजे जवाब में ‘हरा वायरस’ और ‘बजरंग बली’ के संदर्भों के इस्तेमाल की बात स्वीकार की थी। इसके तहत आयोग ने उन पर 16 अप्रैल सुबह छह बजे से अगले 72 घंटों तक चुनाव प्रचार पर रोक लगाई है।
मायावती को सहारनपुर में सात अप्रैल को रैली में आपत्तिजनक बयान को लेकर आयोग ने 11 अप्रैल को उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था। मायावती ने आयोग को भेजे जवाब में स्वीकार किया कि अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय से एकजुट होकर उनके राजनीतिक गठबंधन के उम्मीदवार को वोट देने की अपील की थी। आयोग ने इस बात का संज्ञान लिया कि बसपा प्रमुख ने सहारनपुर संसदीय सीट के उम्मीदवार हाजी फजल उर रहमान के पक्ष में रैली को संबोधित करते हुए उपरोक्त बात विशेष रूप से कही थी। मायावती के राजनीतिक गठबंधन का उम्मीदवार मुस्लिम समुदास से आता है। वह 16 अप्रैल को सुबह छह बजे से 48 घंटों तक चुनाव प्रचार नहीं कर सकेंगी।

Share.

About Author

Pankaj Tyagi

Leave A Reply