ईस्टर बम ब्लास्ट के मृतकों को दी श्रद्धांजलि: पीएम नरेंद्र मोदी

17 views

न्यूज़ नेस्ट I प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय विदेश दौरे के अंतिम दिन रविवार को श्रीलंका पहुंच गए हैं। कोलंबो हवाई अड्‌डे पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, मोदी की आगवानी श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने की। इसके बाद वह ईस्टर के मौके पर श्रीलंका के जिस चर्च में आतंकी हमला हुआ था वहां पहुंचे। उन्होंने यहां आतंकी हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी।
श्रीलंका में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, “ मुझे विश्वास है कि श्रीलंका फिर से उठेगा। आतंक के कायरतापूर्ण कृत्य श्रीलंका की भावना को नहीं हरा सकते हैं। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ एकजुटता से खड़ा है। ” प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा के दौरान भारत और श्रीलंका के बीच आतंकवाद, निवेश समेत कुई मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। यह मोदी की तीसरी श्रीलंका यात्रा है। इससे पहले उन्होंने साल 2015 और साल 2017 में श्रीलंका का दौरा किया था। श्रीलंका पहुंचने पर पीएम मोदी ने हवाई अड्‌डे पर विमान से उतरते समय हाथ जोड़कर लोगों का अभिवादन किया। उन्होंने इस दौरान यहां मौजूद बच्चों से भी बातचीत की। बच्चों ने प्रधानमंत्री मोदी को फूलों का गुलदस्ता भी दिया।
प्रधानमंत्री मोदी ने श्रीलंका पहुंचने पर ट्वीट कर कहा कि “ श्रीलंका आकर खूश हूं। चार साल में यह मेरी तीसरी श्रीलंका यात्रा है। भारत कभी भी अपने मित्रों को नहीं भूलता है, जब उन्हें जरूरत होती है। श्रीलंका में हुए भव्य स्वागत से खुशी हुई। ” विदित हो कि ईस्टर पर हुए धमाके बाद प्रधानमंत्री मोदी यहां पहुंचने वाले पहले विदेशी राष्ट्राध्यक्ष हैं। वह राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना के साथ दिन का खाना खाएंगे और फिर तमिल नेशनल एलायंस के नेताओं के साथ मुलाकात करेंगे। इसके बाद दो बजे वह एक कार्यक्रम में भाग लेंगे। मोदी तीन बजे भारत के लिए रवाना हो जाएंगे।
इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी शनिवार को मालदीव पहुंचे थे। उन्होंने मालदीव की संसद में आतंकवाद को लेकर बिना नाम लिए पाकिस्तान पर जमकर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि पानी अब सिर के ऊपर से जा रहा है। अब भी कुछ लोग “ गुड टेररिस्ट और बैड टेररिस्ट “ में फर्क करने की गलती कर रहे हैं, लेकिन आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। मोदी ने कहा कि इससे निपटना बड़ी चुनौती है. हमने इसे चुनौती के रूप में नहीं लिया तो आने वाली पीढ़ियां हमें माफ नहीं करेंगी।

Share.

About Author

Pankaj Tyagi

Leave A Reply